A

Asheesh Dube's Mrig-Mareechika

This blogs contains hindi poetry by Kumar Asheesh

  • Rated2.3/ 5
  • Updated 13 Years Ago

पग-पग शूल

Updated 13 Years Ago

तेरी सुधियों के उपवन में पग-पग शूल बिछे शूलों पर सोये सुमनों की खातिर गीत लिखे मन वेणी उन्‍मुक्‍त हवाओं में खुल जाती है आकुलता संकल्‍प विकल्...
Read More