A

Asheesh Dube's Mrig-Mareechika

This blogs contains hindi poetry by Kumar Asheesh

  • Rated2.3/ 5
  • Updated 13 Years Ago

दूध का‍ फिर कोई धुला न हुआ

Updated 13 Years Ago

दूध का‍ फिर कोई धुला न हुआ मुझ सा इन्‍सान काफिला न हुआ तेरे कूचे से अबकी यूं गुजरा द‍रमियां कोई फासला न हुआ तुमसे वादा था मगर क्‍या करते ज...
Read More