Sanjay Grover

Sanjay Grover's Paagal-khaanaa

बचकाना,
अहमकाना,
बेवकूफ़ाना,
जाहिलाना,
फ़लसफ़ाना...

  • Rated2.5/ 5
  • Updated 2 Years Ago

Recent blog posts from Paagal-khaanaa


सच में या अफ़साने में / मंटो पागलखाने में
सच में या अफ़साने में / मंटो पागलखाने में
ग़ज़ल  created by Sanjay Grover सच में या अफ़साने में मंटो...
2 Years Ago
BlogAdda
बच्चे न पैदा करने की सुंदर भावना पर एक निबंध
उनसे मैं बहुत डरता हूं जो वक़्त पड़ने प...
2 Years Ago
BlogAdda
सच जब अपनेआप से बातें करता है
सच जब अपनेआप से बातें करता है
ग़ज़ल creation : Sanjay Grover सच जब अपनेआप से बातें करà¤...
2 Years Ago
BlogAdda
दो लोगों में इक सच्चा इक झूठा है....
दो लोगों में इक सच्चा इक झूठा है....
By Sanjay Grover ग़ज़ल पहले सब माहौल बनाया जाता है फà...
2 Years Ago
BlogAdda
पूछो क्यों ?
बड़ों ने कहा कि अच्छे लोगों में उठो, ब...
2 Years Ago
BlogAdda
विज्ञों को सम्मान चाहिए / चमचों को विद्वान चाहिए
विज्ञों को सम्मान चाहिए / चमचों को विद्वान चाहिए
ग़ज़ल PHOTO by Sanjay Grover विज्ञों को सम्मान चाहिए चà¤...
3 Years Ago
BlogAdda