Sanjay Grover

Sanjay Grover's Saral Ki Diary

कुछ दूर
चलके
रास्ते सब
एक से
लगे/मिलने
गए किसी से
मिल आए किसी
से से
हम-निदा

  • Rated2.0/ 5
  • Updated 2 Years Ago

Recent blog posts from Saral Ki Diary


वो तो लड़के भी करते हैं
लड़के को मैं भली-भांति जानता था, इसलिए उ...
2 Years Ago
BlogAdda
हॉस्टेल और हस्तमैथुन
उस दिन सीनियर्स ने सुबह 10-11 बजे ही बुला लि...
2 Years Ago
BlogAdda
एक चुटकी ुतियापा-2
एक चुटकी  ुति यापा-1 स्त्रियों का मैं बà...
3 Years Ago
BlogAdda
एक चुटकी ुतियापा
‘चुन्नी कहां हैं ? मेरी चुन्नी कहां है ...
3 Years Ago
BlogAdda
तीसरा बच्चा
बच्चों की भलाई के लिए काम करनेवाली एक ...
4 Years Ago
BlogAdda
ऐसा भी होता है
ऐसा भी होता है
क्या आपने बाल सीक्रेट एजेंट अमित, असल...
4 Years Ago
BlogAdda