Surendra Kumar Shukla Bhramar5

Surendra Kumar Shukla Bhramar5's Bhramar Ka Jharokha-dard-e-dil

This contains the social pain and different colour of
society

  • Rated1.9/ 5
  • Updated 1 Year Ago

Recent blog posts from Bhramar Ka Jharokha-dard-e-dil


दौड़ आंचल तेरे जब मैं छुप जाता था
BHRAMAR KA DARD AUR DARPAN: दौड़ आंचल तेरे जब मैं छुप जाता था : रूपसी थी कभी चांद सी तू खिली ओढ़...
1 Year Ago
BlogAdda
संगिनी हूं संग चलूंगी
प्रतापगढ़ साहित्य प्रेमी मंच -BHRAMAR KA DARD AUR DARPAN: संगिनी हूं संग चलूंगी : BHRAMAR KA JHAROKHA-DARD-E-DIL: ...
1 Year Ago
BlogAdda
विश्व प्रकृति दिवस आओ पेड़ लगाएं
मेरे प्यारे मित्रों आज विश्व प्रकृति दिवस है, प्रकृति है तो हम हैं , प्रकृति क...
2 Years Ago
BlogAdda
संगिनी हूं संग चलूंगी
संगिनी हूं संग चलूंगी ------------------------ जब सींचोगे पलूं बढूंगी खुश हूंगी मै तभी खिलू...
2 Years Ago
BlogAdda
BHRAMAR KA JHAROKHA-DARD-E-DIL
नफरत की ज्वाला में, घी का हवन देते, कुछ लोग, तस्वीरें बनाते, आविष्कार करत...
3 Years Ago
BlogAdda
आम\' आदमी बन जाऊं
आम' आदमी बन जाऊं ---------------------- मन खौले 'शक्ति' की खातिर 'आम' आदमी बन जाऊं भीड़ हमार...
9 Years Ago
BlogAdda