Veerendra Shivhare

Veerendra Shivhare's Veerkikalamse

तुझे अपना
कहूं तो
किस हक से
वीर, तेरी
साँसों ने
छीन ली
जिंदिगी
मेरी

  • Rated2.1/ 5
  • Updated 2 Years Ago

Recent blog posts from Veerkikalamse


वीरांश - मेरा पहला कविता संग्रह • वीरांश | वीर की कलम से
वीरांश - मेरा पहला कविता संग्रह • वीरांश | वीर की कलम से
वीरेंद्र शिवहरे, शायरी के लहजे में ‘वà...
2 Years Ago
BlogAdda
दरिया दिया और प्यासे रहे • वीरांश | वीर की कलम से
दरिया दिया और प्यासे रहे • वीरांश | वीर की कलम से
दरिया दिया और प्यासे रहे, उम्र भर साथ अप...
5 Years Ago
BlogAdda
मैं न कोई मसीहा न कोई रहनुमा हूँ • वीरांश | वीर की कलम से
मैं न कोई मसीहा न कोई रहनुमा हूँ • वीरांश | वीर की कलम से
मैं न कोई मसीहा, न कोई रहनुमा हूँ, मैं अप...
5 Years Ago
BlogAdda
कभी घर नहीं आता.. • वीरांश | वीर की कलम से
कभी घर नहीं आता.. • वीरांश | वीर की कलम से
यहीं कहीं तो था.. अब नज़र नहीं आता, सिर्फ à...
5 Years Ago
BlogAdda
अच्छा लगता है... • वीरांश | वीर की कलम से
अच्छा लगता है... • वीरांश | वीर की कलम से
तुम से दिल की हर बात कहना अच्छा लगता है, à...
6 Years Ago
BlogAdda